D’Mart का बिज़नस मॉडल सफल होने के पीछे 10 कारण।

D’Mart का बिज़नस मॉडल सफल होने के पीछे 10 कारण।

हमने कुछ साल पहले विशाल मेगा मार्ट के विज्ञापन देखते थे उसके बाद रिलायंस फ्रेश मार्ट का विज्ञापन हर जगह मिलने लगा और उसके बाद तो बिग बाजार, फिर स्पेंसर मॉल और रिलायंस, विशाल, बिग बाजार, स्पेंसर और टाटा के  बहुत से मॉल थे लेकिन कुछ समय पहले एक नया ब्रांड सुपरमार्केट के अन्दर आया और आते ही कुछ समय में सबको प्रॉफिट के मामले में पीछे छोड़ गया जिसका नाम डी-मार्ट है यह ब्रांड सुपरमार्केट के अन्दर ऐसा आया की सब ब्रांड देखते रहे गये और यह सबसे उपर चला गया

आज बहुत से बिज़नसमैन के मन में बहुत से सवाल है जैसे ; डी-मार्ट कैसे सफल हुआ, यह भारत का सबसे अधिक लाभदायक सुपरमार्केट नेटवर्क कैसे बन गया, डी-मार्ट बिजनेस मॉडल क्या है, डी-मार्ट ने रिलायंस, बिगबाजार आदि को अधिग्रहण करने के लिए क्या किया ऐसे बहुत से सवाल मिलेंगे तो आज हम इन सभी सवालों पर चर्चा करेंगे |

D’Mart  क्या है

डी-मार्ट भारत के सबसे बड़े सुपरमार्केट चेन नेटवर्क में से एक है जो की लोगो की रोजमर्रा की जरूरतों की चीज़े बेचते है D-mart का संचालन Avenue Supermarts Ltd. द्वारा किया जाता है और D-mart का मुख्यालय मुंबई में स्थित है आज, डी-मार्ट भारत का सबसे अधिक लाभदायक सुपरमार्केट नेटवर्क है महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और पंजाब राज्यों में डी-मार्ट के देश में 190 स्टोर हैं।

आज D-mart  केवल भारत में संचालित है लेकिन डी-मार्ट के संस्थापक राधाकिशन दमानी ने हमें बताया कि जल्द ही वे अन्य देशों में भी बिज़नस स्टार्ट करेंगे D_mart की शुद्ध आय $ 133.84 मिलियन (FY19) है वित्त वर्ष 2019 के लिए डी-मार्ट का राजस्व $ 2.71 बिलियन है।

जब डी-मार्ट की स्थापना

D-mart की स्थापना 15 मई 2002 (17 वर्ष पहले) को राधाकिशन दमनिरादकिशन दमानी ने पवई, मुंबई, महाराष्ट्र में हुई थी। राधाकिशन दमानी शेयर बाजार में एक निवेशक हैं। राधाकृष्णन दमानी एक प्रसिद्ध स्टॉक एक्सचेंज निवेशक हैं|

डी-मार्ट बिजनेस मॉडल

तो अब आपको D-mart के बारे में पता चल गया है तो अब बात करते है इसके सफलता के कारण तो इसको समझने के लिए हमे D-mart के बिज़नस मॉडल को समझना पड़ेगा तो जैसा कि हम सभी जानते हैं कि Dmart (राधाकिशन दमानी) के संस्थापक एक महान व्यवसायी और निवेशक हैं जो लंबी अवधि के लिए योजना बनाते हैं जैसा कि हम जिलेट के मामले में देखते हैं।

राधाकिशन दमानी एक मध्यम वर्गीय परिवार से हैं इसलिए भारत के आम लोगों की जरूरतों और चाहतों के बारे में जानते है किसी भी व्यवसाय का सरल तर्क या उद्देश्य उपभोक्ता की संतुष्टि के बारे में भी जानते है और राधाकिशन दमानी जानते हैं कि भारतीय सस्ते दर पर उत्पाद खरीदना चाहते हैं और वे सभी उत्पाद एक ही छत के नीचे चाहते हैं तो उसी तरह से उन्हें अपने बिज़नस मॉडल बनाया है और कुछ और सफलता के बिन्दुओ पर नजर डालते है |

स्लोटिंग शुल्क

D-mart एक सामान्य रिटेलर के रूप में उत्पादों को बेचकर और स्लोटिंग शुल्क द्वारा भी लाभ कमाता है स्लॉटिंग फीस प्रवेश शुल्क के समान होती है, उदाहरण के लिए, आपके पास एक साबुन बनाने की फर्म है और आप चाहते हैं कि आपका उत्पाद d-mart में बेचा जाए तो आपको dmart को कुछ शुल्क देना होगा।

अपनी संपत्ति (Own Property)

D-mart के ज्यादातर स्टोर खुद की जमीन में है यानी यह जमीन किराये पर नही लेते है और लेते भी है तो उस समय वे 30 साल या इस तरह की लंबी अवधि के पट्टे पर लेते हैं ताकि इसमें अचानक दाम बढ़ने का जोख़िम नहीं रहता और डी-मार्ट ज्यादातर शहर के बाहरी इलाके में स्टोर खोलता है। मुंबई की तरह, अंधेरी, बोरिवली, मलाड, कांदिवली, भयंदर, मीरा रोड, विरार, वसई, ठाणे, कल्याण और डोंबिवली में भी स्टोर उपलब्ध हैं। पुणे में, डी-मार्ट अच्छी तरह से जाना जाता है और कई स्टोर हैं यदि मैं गलत नहीं हूं तो पुणे और आसपास के क्षेत्र में सिर्फ 6 से अधिक स्टोर हैं क्योकि बाहरी इलाके में जमीन भी सस्ती होती है और किराया भी सस्ता होता है जिस से जिस से कंपनी का जमीन का खर्च हमेशा कंट्रोल में रहता है।

छोटे से शुरुआत

राधाकिशन दमानी ने छोटी शुरुआत की और धीरे-धीरे विस्तार किया  कम पैमाने पर शुरू होने से दमानी पर एहसान किया गया यानी समस्याओं की पहचान की और इसे ठीक किया सभी समस्याओं और योजनाओं के बाद Dmart का विस्तार होना शुरू हो जाता है। Dmart ने अपने प्रारंभिक चरण से लाभ अर्जित करना शुरू कर दिया।

Supplier को तुरंत ही पैसा दे देना।

रिटेल बिज़नस में यदि आप सप्लायर को देरी से भुगतान करते है यह मॉल की आपूर्ति और लागतों को बुरी तरह प्रभावित कर सकते हैं इसलिए दमानी Manufacturer और Supplier को 5 – 7 दिन में ही पैसा दे देते है जिस से वह समय पर मॉल भेज देते है और साथ साथ थोड़ा ज्यादा डिस्काउंट भी मिल जाता है |

लोकल ब्रांड बेचना 

Dmart सभी उत्पादों की गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित करते हैं और साथ साथ कस्टमर की खरीदने की क्षमता पर भी ध्यान केंद्रित करते हैं जिन गैर-ब्रांडेड उत्पादों में आमतौर पर गुणवत्ता नहीं होती है, उन्हें Dmart द्वारा खरीदा जाता है और फिर गुणवत्ता का आश्वासन दिया जाता है और सस्ती दरों में मॉल में बेचा जाता है |

मध्य और निम्न-मध्य वर्ग पर ध्यान

डी-मार्ट लक्षित ग्राहक मध्यम और निम्न मध्यम वर्ग है वे देश के आम लोगों की जरूरतों और इच्छाओं को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं और केवल ब्रांडेड उत्पादों की खोज करने वाले उच्च वर्ग के लोगों की ध्यान नही देते है  जो और बहुत से स्टोर करते है |

पार्किंग की जगह

आज शॉपिंग में जाते समय बड़ी समस्या वाहन की पार्किंग की है और यहाँ पर Dmart स्मार्ट कदम उठाता है और अधिकांश मॉल में पार्किंग की अच्छी जगह है इसलिए लोग दूसरों की बजाय डी मार्ट में जाना पसंद करते हैं|

प्रशिक्षित कर्मचारी

डी-मार्ट का प्रबंधन बहुत अच्छा और अच्छी तरह से प्रशिक्षित और अनुभवी है। Dmart के कर्मचारी सदस्य बहुत सहयोगी और प्रशिक्षित हैं प्रत्येक विभाग के पास उस क्षेत्र को नियंत्रित करने के लिए एक अलग व्यक्ति है और वे उस में अच्छी तरह से अनुभव करते हैं।

Over Lighting और ज्यादा सजावट न करना

डी मार्ट का इंटीरियर डिजाइन इतना महंगा नहीं है। वे आंतरिक डिजाइन पर कम खर्च करते हैं और उनके पास सामान्य और अच्छे / औसत दिखने वाले मॉल होते हैं जिस से उनके पैसा बच जाता है।

बड़ी तादाद में माल खरीदना

D-mart थोक में उत्पादों को खरीदता है ताकि उन्हें अच्छी छूट मिल सके और उपभोक्ता को उन्हें आकर्षित करने के लिए वह छूट प्रदान कर सके।

बिचौलिए न होना 

D-mart सीधे उन कंपनियों / कारखानों से उत्पाद खरीदते हैं जो उत्पाद की कीमत कम करते हैं और इससे उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए उपभोक्ता को छूट देने में मदद मिलती है।

खाद्यान्न और खाद्य उत्पाद

खाद्य उत्पाद और खाद्यान्न डी-मार्ट में उपलब्ध हैं खाद्यान्न ऐसी चीज है, जिसे भारत की महिलाएं (कपड़ों और सौंदर्य प्रसाधनों के बाद) में अधिक रुचि रखती हैं, और जागरूक भी  गेहूं, चावल, दाल, चीनी इत्यादि की गुणवत्ता किसी भी अन्य दुकान के साथ बेमिसाल है। इस तरह डी-मार्ट ने एक आम परिवार को डी-मार्ट की यात्रा के लिए राजी कर लिया।

भारी छूट

जहां छूट की अनुमति है वहां भारतीय उपभोक्ता अधिक आकर्षित हैं। तो, D-mart उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए भारी छूट देता है।

अन्य कारण

यह कारण मेरे अनुसार है इसलिए यह आधिकारिक नहीं है। जब आप dmart मॉल में प्रवेश करते हैं तो आपके पास एक उत्पाद सूची होती है जिसे आप खरीदना चाहते हैं लेकिन आप कुछ अतिरिक्त या अन्य उत्पादों को भी भारी छूट के कारण खरीदते हैं।उदाहरण के लिए, आपने चावल, गेहूं, चीनी, चॉकलेट खरीदने के लिए डामर में प्रवेश किया और इन उत्पादों को खरीदते समय आपने बिस्कुट देखा जिसमें 10% या 20% की छूट है और आप बिस्कुट खरीदते हैं, इससे भी Dmart का लाभ बढ़ जाता है।

रेवेन्यू मॉडल Revenue Model

D-mart एक सामान्य रिटेलर के रूप में उत्पादों को बेचकर और स्लोटिंग शुल्क द्वारा भी लाभ कमाता है स्लॉटिंग फीस प्रवेश शुल्क के समान होती है, उदाहरण के लिए, आपके पास एक साबुन बनाने की फर्म है और आप चाहते हैं कि आपका उत्पाद dmart में बेचा जाए तो आपको dmart को कुछ शुल्क देना होगा।

निष्कर्ष

Dmart भारत सबसे अधिक लाभदायक है और सबसे बड़ी सुपरमार्केट श्रृंखला में से एक है। Dmart के संस्थापक राधाकृष्णन दमानी एक निवेशक और Dmart के संस्थापक हैं। Dmart अपने शुरुआती दिनों से एक लाभदायक व्यवसाय है। डी मार्ट उपभोक्ता की संतुष्टि पर ध्यान केंद्रित करता है और सस्ते दर पर गुणवत्ता वाले उत्पादों की पेशकश करता है और अन्य सुपरमार्केट की तुलना में बेहतर सेवा प्रदान करता है।

हमने इस पोस्ट में डी मार्ट माहिती मराठी डी मार्ट मॉल d mart owner डी मार्ट ऑनलाइन शॉपिंग डी मार्ट प्राइस लिस्ट डी मार्ट जयपुर, राजस्थान d mart near me d mart products price list d mart products price list today d’mart price list d mart kitchen products d’mart bangalore d mart franchise d’mart near me d mart owner dmart online order Dmart व्यवसाय मॉडल है,  के बारे में बताया है यदि जानकारी आपको पसंद आये तो शेयर करे और इनके बारे में कुछ पूछना है तो निचे कमेंट करे

Leave A Reply

Your email address will not be published.