Business

बेयरिंग बनाने का बिज़नेस Bearings Making Business Hindi

बेयरिंग बनाने का बिज़नेस Bearing Manufacturing Business Hindi

Ball bearing manufacturing process ppt, बेयरिंग का इस्तेमाल सभी को पता है कितना है क्योकि किसी घूमनेवाली मशीन हो या कोई भी घुमने वाला उपकरण हो सभी के अन्दर बेयरिंग का इस्तेमाल किया जाता है इसलिए आज बेयरिंग की इंतनी ज्यादा डिमांड है क्योकि बेयरिंग का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि कोई भी चीज को आसानी से घुमाया जा सकता है  आज automobile से लेकर कोई भी इंडस्ट्री हो सभी के अन्दर Bearings का इस्तेमाल है |

सोयाबीन तेल बनाने का बिज़नेस कैसे शुरु करे

इसलिए इनकी डिमांड को देखते हुए आज बहुत सी छोटी बड़ी कंपनी है जो Bearings का प्रोडक्शन करती है और करोड़ों का बिज़नेस जमा रखा है और यह एक ऐसा बिज़नेस है जिसको छोटे लेवल से शुरु कर सकते है और बहुत बड़ी कंपनी तक बना सकते है और सदाबहार चलने वाला एक प्रॉफिट वाला बिज़नेस है तो कोई person यदि अपना कोई छोटा सा बिज़नेस शुरु करना चाहता है तो Bearings Making Business  शुरु कर सकता है |

बेयरिंग बनाने का बिज़नेस के लिए जरूरी चीजे

Bearings Manufacturing  Plant  Business Requirements :- इस बिज़नेस को शुरु करने के लिए बहुत सी चीजो को जरुरत पड़ती है  लेकिन चीज की जरुरत बिज़नेस के आकार पर निर्भर करती है क्योकि ये बिज़नेस छोटे लेवल से शुरु करते है तो ज्यादा चीजो की जरुरत नही पड़ती है और बिज़नेस बड़े लेवल पर शुरु करते है तो बहुत सी Requirements होती है | Bearings  manufacturing Plant  project report

  • इन्वेस्टमेंट (Investment)
  • जमीन (land)
  • बिज़नेस प्लान (Business plan)
  • बिल्डिंग (Building)
  • मशीन (Machine)
  • बिजली, पानी की सुविधा (Electricity, water facilities)
  • कर्मचारी (Staff)
  • कच्चा माल (Raw Material)
  • वाहन (Vehicle)

अब निचे सभी के बारे में विस्तार से बतायेंगे की किस चीज कितनी जरुरत पड़ती है |

Chai Sutta Bar Franchise Hindi 

बेयरिंग बनाने के बिज़नेस के लिए इन्वेस्टमेंट

Investments For Bearings  Making Business :- इस बिज़नेस के अन्दर निवेश इस Business और जमीन के ऊपर निर्भर करता है क्योकि यदि बड़ा Business शुरु करते है तो ज्यादा इन्वेस्टमेंट (Investment) करनी पड़ती है और छोटा बिज़नेस  शुरु करते है (Tin Sheds  banane ka business ) तो उसके अन्दर कम इन्वेस्टमेंट (Investment) करनी पड़ती है (Bearings  banane ka business )और खुद की जमीन है तो कम पैसो में काम चल सकता है और यदि जमीन किराये पर लेते है या खरीदते है तो उसके अन्दर ज्यादा इन्वेस्टमेंट  (Investment)करनी पड़ती है

और इसके अन्दर मशीन भी कई प्रकार की आती है और सभी के रेट भी अलग अलग है इनके ऊपर भी इन्वेस्टमेंट निर्भर करती है  इनके बाद इस Business को अच्छे लेवल पर शुरु करने के लिए मशीन खरीदनी पड़ती बिल्डिंग बनानी पड़ती है जिसके अन्दर मशीन लगेगी और स्टॉक रखने के लिए सभी चीज के लिए बिल्डिंग फिर बिजली, पानी की सुविधा और कच्चा माल व् वाहन सभी के लिए अलग अलग इन्वेस्टमेंट(Investment) करनी पड़ती है जैसे ;mn

  • Plant and machinery =  ₹10 lakhs
  •  Other Cost :-  Rs. 2  To Rs. 5 Lakhs

Total Investment :-  Rs. 10  To Rs. 15 Lakhs

बेयरिंग बनाने के बिज़नेस के लिए जमीन Bearing Manufacturing Business Hindi

 Land For Bearings  Making Business Hindi :-  इसके अन्दर अच्छी जमीन की जरुरत पड़ती है क्योकि इसके अन्दर प्लांट बनाना पड़ता है उसके बाद गोडाउन बनाना पड़ता है और कुछ जमीन पार्किंग के लिए चाहिए   

Total Space :- 1500 Square Feet To  2000  Square Feet

मेडिकल ऑक्सीजन सिलिंडर प्लांट कैसे लगाये

बेयरिंग बनाने के बिज़नेस के लिए जरुरी डॉक्यूमेंट

Document For Bearings  Making Udyog कोई भी Business  शुरु करते है तो कुछ पर्सनल डॉक्यूमेंट की जरुरत पड़ती है और कुछ Business  से सबंधित लाइसेंस की जरुरत पड़ती है जैसे ;

Personal Document (PD) :- Personal Document के अन्दर बहुत से डॉक्यूमेंट होते है जैसे :

  • ID Proof :- Aadhaar Card , Pan Card , Voter Card
  • Address Proof :- Ration Card , Electricity Bill ,
  • Bank Account With Passbook
  • Photograph Email ID , Phone Number ,
  • Other Document  

Business Document (PD) :-  Business Document के अन्दर बहुत से डॉक्यूमेंट होते है जैसे :

  • MSME industry Aadhaar Registration
  • Business Registeration
  • Business pan card
  • GST Number
  • BIS Registration
  • Trademark

बेयरिंग बनाने के बिज़नेस के लिए मशीन

  • Ball Bearing IR & OR Race way Honing (Super-finish) Machine.

Machine Buy :- Click Here

बेयरिंग बनाने का बिज़नेस शुरु करने के लिए प्रोसेस

यदि Bearings   के बिज़नेस घर से शुरु करते है तो इसके अन्दर ज्यादा प्रोसेस नही करनी पड़ती है इसमें कच्चे माल के साथ घर पर हाथो से Business  शुरु कर सकते है लेकिन यदि बड़े लेवल पर बिज़नेस करते है तो इसके अन्दर एक प्रोसेस के हिसाब से शुरु  करना पड़ता है जैसे इसके लिए बहुत सी गतिविधिया करनी पड़ती है जैसे area analysis, land selection, project plan, registration, financial Arrangement आदि तो सभी सभी काम एक प्रोसेस के अनुसार करने पड़ते है | Bearings  Business Hindi

Area Analysis (क्षेत्र विश्लेषण) :- कोई भी बिज़नेस शुरु करना हो तो सबसे पहले एरिया का Analysis करना जरुरी है Area Analysis के अन्दर उस एरिया के अन्दर रिसर्च की जाती है जंहा Business करने की सोच रहे है वंहा सब कुछ पता करना पड़ता है जैसे वंहा पहले से कितने Plant है वह किस प्रकार का प्रोडक्ट बना रहे है उनके प्रोडक्ट का price कितना है क्या आप उस से कम price कर सकते है और कस्टमर की क्या डिमांड है सब कुछ पता करे |

Land Selection (जगह का चयन) :- Area Analysis (क्षेत्र विश्लेषण) करने के बाद लोकेशन सेक्लेक्ट करनी पड़ती है और ध्यान रखे उस लोकेशन पर अच्छी रोड़ की सुविधा और पानी की सुविधा और बिजली सुविधा सभी चीजे होनी चाहिए Bearings  business opportunity

Bearings Ka Business Kaise Shuru Kare

Project Plan (बिज़नेस प्लान):- जब लोकेशन सेलेक्ट की जाये उसके बाद अपना Business  प्लान ready करे और इस प्लान के अन्दर वह सभी चीजे डाले जो Business  के अन्दर करनी होती है   जैसे कितनी इन्वेस्टमेंट करनी पड़ेगी कौन कौन सी मशीन लेके आनी पड़ेगी कौन कौन प्रोडक्ट बनायेंगे ऐसे सभी चीजे बिज़नेस प्लान के अन्दर ऐड होना चाहिए |  

Financial Arrangement (वित्तीय व्यवस्था) :- जब Business  प्लान ready हो जाये उसके बाद  Financial Arrangementकरनी पड़ती है क्योकि इन्वेस्टमेंट के बिना कुछ नही किया जा सकता है |

License & Registration:-  जब इन्वेस्टमेंट हो जाये तो उसके बाद लाइसेंस के लिए अप्लाई करे क्योकि Bearings  को  एक ब्रांड के नाम से बेचनी है तो इसके लिए लाइसेंस हिना चाहिए |

Machinery Purchasing:-  जब Business  के लिए लाइसेंस मिल जाये उसके बाद Business  के लिए मशीन खरीदे क्योकि मशीनरी के बिना कोई Business नही किया जा सकता है |

Electricity Fitting and Machinery Installation :-  मशीनरी लेने के बाद उनके लिए Electricity Fittingकरे और फिर मशीन लगाये |

Worker Hire :- सभी चीजे करने के बाद अपने Business  के हिसाब से वर्कर लेके आये .

उसके बाद अपना Business  शुरु कर सकते है |

बेयरिंग बनाने के बिज़नेस के लिए मार्केटिंग Bearing Manufacturing Business Hindi

Industrial Bearings  Making Business Marketing :-मार्केटिंग के लिए आप रिटेल और होलसेल दोनों तरह से मार्किट में बेच सकते है जब प्रोडक्ट बनकर तैयार हो जाता है तो सबसे पहले उसकी मार्केटिंग करे क्योकि कस्टमर को प्रोडक्ट के बारे में पता नही होगा तो कस्टमर खरीदेगा कैसे इसलिए कोई भी business हो उसकी मार्केटिंग जरुरी है प्रोडक्ट के कुछ सेम्पल लोगों को बिना पैसे के देने होंगे ताकि वो आपके प्रोडक्ट को उपयोग में लेकर खरीदने के लिए संतुष्ट हो सके इसके बाद आप अपने प्रोडक्ट को अपने आस-पास की ऑटोमोबाइल   रिपेयर  की दूकानों पर भी बेच सकते हैं |

बेयरिंग बनाने का Business के लिए लोन

Loan for Bearing Manufacturing Business Hindi :- यदि Bearings  Making Business घर से शुरु करते है तो इसके लिए लोन की जरुरत नही है लेकिन यह Business  बड़े लेवल पर करते है तो इसके लिए लोन ले सकते है  भारत सरकार कि तरफ से लोगो को व्यापार करने के लिए “मुद्रा लोन” दिया जा रहा है जिसमे आप Bearings  का Business करने के लिए भी Mudra Loan के सकते है इसके लिए आपको इनके ऑफिस जाना पड़ेगा और अपने बिज़नेस की डिटेल देनी है आपको Bearings   बनाने के business में किन चीजों कि जरुरत है उसके बारे में विवरण देना होगा

यदि आपको यह Bearings  Making Business Hindi की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये | Bearing Manufacturing Business Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button