क्रिप्टोकरेंसी क्या है क्रिप्टो करेंसी के फायदे और नुकसान क्या हैं?

क्रिप्टोकरेंसी क्या है क्रिप्टो करेंसी के फायदे और नुकसान क्या हैं?

सभी देशो की अपनी अपनी मुद्रा (करेंसी) होती है जैसे भारत में रूपये, अमेरिका में डॉलर, ब्रिटेन में पौंड, यूरोप में यूरो आदि और करेंसी के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था चलती है क्योकि दुनिया के किसी भी व्यक्ति संस्था तथा देश को अपनी मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए और आपसी लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए एक मुद्रा (करेंसी) की जरूरत होती है करेंसी के द्वारा ही ये सब कुछ संभव हो पता है लेकिन करेंसी भी दो प्रकार की होती है एक तो भौतिक करेंसी होती हैं जिसे आप देख सकते हैं, छू सकते हैं और जेब में डाल कर कंही भी उसका इस्तेमाल कर सकते है और एक डिजिटल करेंसी भी होती है जिसे क्रिप्टो करेंसी कहते है

क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल करेंसी है इसे आप न तो देख सकते हैं, न छू सकते हैं लेकिन आपको बता दे की आज के समय की सबसे मूल्यवान करेंसी बन चुकी है और पिछले कुछ सालों में ऐसी करेंसी काफी प्रचलित हुई है लेकिन यह करेंसी इंडिया के अन्दर अवैध है यानी भारत के अन्दर इस करेंसी का इस्तेमाल ग़ैर क़ानूनी है आज यंहा हम आपको बतायेंगे क्रिप्टोकरेंसी क्या है क्रिप्टो करेंसी के फायदे और नुकसान क्या क्या है |

क्रिप्टोकरेंसी क्या है

क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी करेंसी है जिसे आप न तो देख सकते हैं, न छू सकते हैं यह क्रिप्टोग्राफ़ी जैसी एक टेक्नोलॉजी द्वारा बनाई गई एवं डिस्ट्रिब्यू क्रिप्टोकरेंसी टेड लेज़र सिस्टम का उपयोग करने वाली एक डिजिटल करेंसी हैं कुछ खास बाते है इस करेंसी की जैसे कोई भी करेंसी  रुपया, डॉलर, यूरो या अन्य मुद्राओं का संचालन किसी राज्य, देश, संस्था या सरकार द्वारा किया जाता लेकिन क्रिप्टोकरेंसी का संचालन किसी राज्य, देश, संस्था या सरकार द्वारा नही किया जाता यह एक यह एक स्वतंत्र मुद्रा है

जिसका कोई मालिक नहीं होता है क्योकि क्यूंकि ये Decentrallized Currency होती हैं और क्रिप्टोकरेंसी का प्रयोग सामान और सर्विस खरीदने के लिए किया जाता है और क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी करेंसी है जो “पियर टू पियर इलेक्ट्रॉनिक’ कैश सिस्टम के रूप में कार्य करता है क्रिप्टोकरेंसी का इस्तेमाल इन्टरनेट की सहायता से किया जा सकता है

सबसे पहले क्रिप्टोकरेंसी  “बिटकॉइन” थी जिसकी शुरुआत 2009 में हुई थी जो जापान के सतोषी नाकमोतो नाम के एक इंजीनियर ने बनाया था लेकिन उस समय लोग इसकरेंसी को नही जानते थे और इसी कारण यह करेंसी उस समय ज्यादा परचलन में नही थी लेकिन धीरे धीरे  यह करेंसी बहुत ज्यादा प्रचलित हो गयी और आज लगभग 1000 क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं,|

क्रिप्टोकरेंसी के प्रकार

आज लगभग 1000 क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं लेकिन उनमें से कुछ ही ऐसे हैं जो की अच्छा perform कर रहे हैं |

बिटकॉइन (बीटीसी) :- बिटकॉइन दुनिया की सबसे पहली क्रिप्टोकरेंसी है बिटकॉइन का निर्माण साल 2009 में सतोशी नाकामोटो ने किया था यह एक डी-सेंट्रलाइज्ड मुद्रा है जिसका मतलब है की इसपर सरकार या कोई भी संस्था का कोई भी हाथ नहीं है और इसका मूल्य बहुत ज्यादा है |

रेड कॉइन:- रेड कॉइन का इस्तेमाल लोगो को टिप देने के लिए किया जाता है इसलिए इसका उपयोग  कुछ विशेष अवसरों पर किया जा सकता है|

लाइटकॉइन (एलटीसी) :- लाइटकॉइन एक बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी है और यह भी डीसेंट्रलाइज्ड तकनीक की सहायता से कार्य करता है. यह बिटकॉइन से ज्यादा तेजी से काम करती है क्योकि लाइटकॉइन का ब्लाक जनरेशन का टाइम Bitcoin के मुकाबले 4 गुना कम है और लाइटकॉइन क्रिप्टोकरेंसी को चार्ल्स ली द्वारा शुरू किया गया था, जोकि उस दौरान एक गूगल कंपनी के एम्प्लोई थे|

इथेरेयम (ईटीएच) :- इथेरेयम भी एक क्रिप्टोकरेंसी का प्रकार है और यह  ब्लॉकचैन पर आधारित एक ओपन सोर्स डीसेंट्रलाइज्ड कंप्यूटिंग प्लेटफॉर्म हैं जिसका उपयोग इंटरचेंज करेंसी के रूप में किया जाता है इस क्रिप्टोकरेंसी के दो वर्जन है पहला इथेरेयम (ईटीएच) एवं दूसरा इथेरेयम क्लासिक (ईटीसी) और दोनों काफी प्रसिद्ध है |

डोज़कॉइन (डोज) :- डोज़कॉइन के संस्थापक बिली मर्कस है और यह भी एक प्रचलित क्रिप्टोकरेंसी है यह बिटकॉइन के समय ही आई थी लेकिन इसकी माइनिंग जल्दी हो जाती है

 मोनेरो:- मोनेरो क्रिप्टोकरेंसी सन 2014 में शुरू कि गयी थी लेकिन यह एक ऐसी क्रिप्टोकरेंसी जिसके अन्दर विशेष प्रकार की सिक्योरिटी का उपयोग किया जाता है और उस सिक्योरिटी का नाम रिंग सिग्नेचर है मोनेरो क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग डार्क वेब ब्लैक मार्केट’ में किया जाता है इसलिए इसका उपयोग कालाबाजारी में बहुत होता है |

डैश (डीएएसएच) :- डैश क्रिप्टोकरेंसी का नाम डार्क कॉइन के naam पर रखा गया है और इसका आविष्कार वर्ष 2014 में हुआ था ‘मास्टरनोड’ नामक नेटवर्क की सहायता से कार्य करता है जो बिटकॉइन से तेज काम करता है |

क्रिप्टो करेंसी से क्या-क्या लाभ है?

  • क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल करेंसी है इसलिए इस धोखाधड़ी के कम चांस होते है |
  • क्रिप्टो करेंसी की अगर बात की जाए तो ये सामान्य डिजिटल भुगतान से ज्यादा सुरक्षित होते हैं।
  • यदि कोई इन्वेस्टमेंट करना चाहता है और ज्यदापैसे कमाना चाहता हो वह  क्रिप्टो करेंसी में इन्वेस्ट क्र सकता है क्योकि  इसकी कीमतों में बहुत तेजी से उछाल आता है। लिहाजा, निवेश के लिए यह एक अच्छा प्लेटफॉर्म है।
  • क्रिप्टो करेंसी पूरी तरह से सुरक्षित है बस आपको उसके लिए ऑथेंटिकेशन रखने की आवश्यकता होती है|
  • क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से किया जाने वाला लेनदेन और आप जो नॉर्मल लेनदेन करते हैं दोनों में अंतर होता हैं, क्योंकि क्रिप्टोकरेंसी में किया जाने वाला लेनदेन बहुत ही कड़ी निगरानी में एवं सुरक्षित तरीके से किया जाता हैं|

क्रिप्टो करेंसी से क्या-क्या नुकसान है?

  • क्रिप्टो करेंसी के अन्दर यदि एक बार कोई गलती  से transaction हो जाये तो वापिस उसे सही नही कर सकते है क्योकि इसके अन्दर reverse का आप्शन नही होता है |
  • क्रिप्टो करेंसी का कोई  कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है जिसके बड़े नुकसान है जैसे इसका मुद्रण नहीं किया जा सकता न ही इसके नोट छापे जा सकते है |
  • क्रिप्टो करेंसी का कण्ट्रोल किसी भी देश, सरकार या संस्था के पास नही है  जिसके कारण इसकी कीमत बहुत ज्यादा उछाल रहता है इसलिए इसके अन्दर इन्वेस्ट करना बहुत रिस्क होता है |
  • क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल गलत काम के लिए बहुत ज्यादा किया जाता है जैसे ड्रग्स सप्लाई, कालाबाजारी आदि में आसानी से किया जा सकता है|
  • अगर आपका वॉलेट के आईडी खो जाता है तो वह हमेशा के लिए खो जाता है क्यूंकि यह दुबारा प्राप्त करना संभव नहीं है। ऐसे में आपके जो भी पैसे आपके वॉलेट में स्तिथ होते हैं और वो आपके पास कभी नही आ सकते है|

क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग कैसे कर सकते है

क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग करना बहुत अस्सं है लेकिन बहुत ज्यादा रिस्क वाला भी है क्योकि इसकी कीमत सेकंड के हिसाब से उपर निचे होती रहती है यंहा रातो रात लाखो कमा सकते है और एक रात के अन्दर लाखो खो भी सकते है आज क्रिप्टोकरेंसी का कुल मूल्य 350 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक है आप क्रिप्टो एक्सचेंज जैसे बिनांस, बिटस्टाम्प और कॉइनबेस के साथ ऑनलाइन     ट्रेडिंग कर सकते हैं  लेकिन इसके अन्दर इतना ही पैसा लगाना चाहिए जितना खो सके |

क्रिप्टो करेंसी का उपयोग कानूनन वैध है या अवैध

क्रिप्टो करेंसी को सभी देशो में कानूनी मान्यता नहीं मिली है जैसे भारत लेकिन कुछ देशो में मान्यता मिली है तो क्रिप्टो करेंसी का उपयोग करना कानूनी रूप से सही है या नहीं! दरअसल, यह फैसला आपकी इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस देश में रहकर इसका उपयोग कर रहे हैं क्योकि यदि आप ऐसे देश में बैठकर इसका उपयोग कर रहे है जंहा इसको मान्यता नही मिली है तो यह अवैध है और वंहा उपयोग करते है जंहा इसको मान्यता मिली है तो वह वैध है लेकिन कुछ देश के अन्दर ना तो इसे औपचारिक तौर पर बैन किया गया है और ना ही इसके प्रयोग की मान्यता दी गई है|

हमने इस पोस्ट में आपकोक्रिप्टो करेंसी wikipedia क्रिप्टो करेंसी atc भारतीय रिजर्व बैंक cryptocurrency क्रिप्टो अर्थ क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन क्रिप्टो कॉइन क्रिप्टो करेंसी मीनिंग क्रिप्टो करेंसी क्या होती है क्रिप्टो करेंसी क्या है क्रिप्टोकोर्रेंसी क्या है भारतीय रिजर्व बैंक cryptocurrency क्रिप्टो करेंसी मार्केट आभासी मुद्रा क्या है cryptocurrency अर्थ क्रिप्टो अर्थ cryptocurrency in hindi wikipedia cryptocurrency kya hai in hindi how cryptocurrency works in hindi cryptocurrency mining meaning in hindi bitcoin meaning in hindi cryptocurrency in india cryptocurrency meaning in gujarati crypto meaning in hindi के बारे में बताया है यदि जानकारी आपको पसंद आये तो शेयर करे और इनके बारे में कुछ पूछना है तो निचे कमेंट करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *