Share Market

शेयर मार्केट में FII और DII क्या है? | FII and DII Ka Data Kaise Nikale

शेयर मार्केट में FII और DII क्या है? | FII and DII Ka Data Kaise Nikale

What is FII and DII in Stock Market :- शेयर मार्किट में बहुत से प्रकार के इन्वेस्टर होते है जैसे एक तो रिटेल इन्वेस्टर शेयर मार्किट इन्वेस्टमेंट करते है जो छोटे इन्वेस्टर होते है दुसरे शेयर मार्किट में बड़ी बड़ी कंपनी इन्वेस्टमेंट करती है या ट्रेडिंग करती है अब छोटे इन्वेस्टर जो रिटेल में काम करते है ये थोड़े पैसे लगाते है और बड़ी बड़ी कंपनी ज्यादा पैसे लगाती है ऐसे अलग अलग प्रकार के इन्वेस्टर मार्किट के अन्दर काम करते है और शेयर मार्किट में ये बड़ी बड़ी कंपनी जब बहुत ज्यादा पैसा एक दम से ज्यादा पैसा लगाती है तो मार्किट की मोमेंट को बदल देती है जिस रिटेलर का पैसा डूब जाता है

और कंपनी अच्छा पैसा बना लेती है तो बहुत सारे इन्वेस्टर इन बड़ी बड़ी कंपनी को फॉलो करते है और ये कंपनी जंहा पैसा लगाती है वन्ही पैसा लगाते है जिस से अच्छा प्रॉफिट बना लेते है इसलिए वो इन्वेस्टर ये सर्च करते है FII and DII data today जिस से डाटा निकाल कर अच्छा प्रॉफिट बना सकते है है इसलिए इस आर्टिकल में हम आपको बतायेंगे की ये FII और DII क्या होती है और ये कैसे काम करती है |

Share Market Course Free in Hindi 

FII and DII की फुल फॉर्म

DII Full Form in Hindi :- DII का Full Form होता है Domestic Institutional Investors भारत के जो Finacial Institutional है और की फुल फॉर्म Domestic Institutional Investors है |

FII कौन होते है

What Is FII In Hindi :- (Fll) foreign institutional investors या फॉरेन इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर ऐसे ऑगनाइज़ेश्‌न्‌ होते है जो दूसरे देशों में इन्वेस्ट करती हैं मान लो कोई कंपनी USE में रजिस्टर है और वह भारत में इन्वेस्ट करेगी तो इसे (Fll) foreign institutional investors कहलाती है

जिस देश में Foreign Institutional Investors होते है उस देश की Economy बहुत अच्छे से परफॉरमेंस करती है फॉरेन इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्ट करने वाली काफी बड़ी-बड़ी कंपनी होती है और ये कंपनी Investment Bank, Mutual funds, और Insurance company ऐसे बहुत सारी कंपनी फॉरेन इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टमेंट करती है Securities and Exchange Board of India SEBI इसके अंतर्गत 1450 से ज्यादा companies registered है जो FII के लिए काम करती है और investors को platform & medium provide करती है

Indian स्टॉक मार्केट में (Fll) foreign institutional investors

  • Blackstone Group
  • KKR
  • Euro Pacific Growth Fund
  • Franklin Templeton Investments Fund
  • Sequoia Capital
  • TPG Group

DII क्या होता है

DII Full Form in Hindi :- डोमेस्टिक इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स में वो institutional investors होते है जो अपने ही देश में इन्वेस्ट करते है। DII’s में भी investment bank’s, mutual fund, insurance corporation etc.. बड़ी कंपनिया शामिल होती है एक रिपोर्ट के हिसाब से ₹55,595 crores का Indian equity market है और यह Digitization की वजह से तेजी के साथ बढ़ रहा है और अब लोगो का Indian share market में इंटरेस्ट बढ़ रहा लोग छोटे-छोटे investment scheme के माध्यम से किसी ना किसी DII संस्था में invest कर रहे है |

भारत में DII कौन कौन से है

  1. Indian Mutual Fund Company
  2. Indian Insurance Company
  3. Local Pension Fund
  4. Banking & Financial Institution

इंडियन शेयर बाज़ार की छुट्टियाँ 2023

FII Vs DII In Hindi

FII और DII क्या है ये क्या काम करते है ये तो पता चल गया अब बात आती है की इनके अन्दर क्या क्या अंतर है तो जैसे आपको बता दिया दोनों ही इन्वेस्टमेंट करती है शेयर मार्किट में लेकिन FII देश से बहार की कंपनी होती है जो इंडिया के अन्दर शेयर में पैसा लगाती है और DII इंडिया की ही कंपनी जो देश अन्दर ही पैसे लगाती है और इस लिए trading market में इनका अहम् role है. अगर डाटा के हिसाब से बात करे तो DII एक अन्तर्गत ₹20.4 lakh crores के assets manage किये जाते है जब की FII के अंतर्गत ₹24.4 lakh crores assets manage किये जाते है. इस साल DII के investment में 10% का गिरावट देखा गया है और FII में करीब 21% का गिरावट देखा गया है. 2020 में अभी तक DII में करीब ₹72,000 करोड़ का investment किया गया है जब की FII यानि foreign institutions.में ₹39,000 का investment किया गया है |

स्टॉक मार्केट पर FII/DII डेटा का प्रभाव

मार्किट ट्रेंड्स :- एफआईआई/डीआईआई डेटा equity market.में बहुत बड़ा रोल अदा करता है क्योकि ये एफआईआई और डीआईआई बहुत बड़े लेवल पर पैसा शेयर मार्किट में डालती है जिस से मार्किट ट्रेंड्स बदल जाता है स्टॉक मूल्यों में वृद्धि होती है। इसके विपरीत, जब एफआईआई और डीआईआई एक बड़ा शेयर बेचते हैं तो स्टॉक मूल्यों में कमी आती है।

स्टॉक performance  :- FII और DII एक स्टॉक के प्राइस को ऊपर लेके जा सकते है और निचे भी लेके आ सकते है क्योकि जब कई एफआईआई और डीआईआई किसी विशेष कंपनी के शेयर खरीदते हैं, तो स्टॉक की कीमत बढ़ जाती है और यदि कई एफआईआई और डीआईआई किसी विशिष्ट कंपनी के शेयर बेचते हैं, तो स्टॉक की कीमत गिर जाएगी |

FII and DII Ka Data Kaise Nikale

यदि आप शेयर मार्किट में इन्वेस्टमेंट या ट्रेडिंग करते है तो FII and DII Ka Data बहुत काम आता है तो इसके लिए गूगल में सर्च करेंगे FII and DII Data today फिर टॉप वेबसाइट में आपको डाटा मिल जायेगा वंहा से आप FII and DII Ka Data का इस्तेमाल करके स्टॉक सेलेक्ट कर सकते है और मार्किट से अच्छा पैसा बना सकते है |

FII Vs DII In Hindi FAQ

Q. FII DII क्या होता है?
Ans. एफआईआई का अर्थ है विदेशी संस्थागत निवेशकों का. यह भारतीय शेयर बाजारों में पैसे डालने वाले अन्य देशों के निवेशकों को निर्दिष्ट करता है. ये बैंकों के अलावा संप्रभु संपत्ति निधियों, निवेश न्यासों, पारस्परिक निधियों और पेंशन निधियों के रूप में हैं.

Q. FII DII डेटा कैसे पढ़ा जाए?
Ans. Foreign Institutional Investors और Dii डाटा को खरीद और बिक्री मूल्य का उपयोग करके पढ़ा जा सकता है, लेकिन इसके शुद्ध मूल्य पर ध्यान देना सबसे अच्छा है। इससे आपको किसी भी स्टॉक के संबंध में सर्वोत्तम निर्णय लेने में मदद मिलेगी।

Q. मैं अपने एफआईआई निवेश की जांच कैसे करूं?
Ans. कोई दैनिक एफआईआई गतिविधि का पता कैसे लगा सकता है? नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की वेबसाइटें अपने संबंधित एक्सचेंजों पर एफआईआई गतिविधियों पर डेटा रखती हैं। यह डेटा सार्वजनिक उपभोग के लिए उपलब्ध है और दैनिक आधार पर अपडेट किया जाता है।

Q. भारत में सबसे बड़ा dii कौन है?
Ans. DII डाटा देश के शेयर बाजार में घरेलू निवेश की जानकारी देता है और देश की अर्थव्यवस्था के संबंध में निवेशकों के सामान्य मूड को नियंत्रित करने में सहायता करता है और भारत का सबसे बड़ा DII LIC है

Q. FII और DII में क्या अंतर है?
Ans. दोस्तों (Fll) foreign institutional investors का मतलब होता है जब आप किसी दूसरे देश में निवेश करते हो जैसे की आपकी कंपनी USA में रजिस्टर है और आप वह इंडिया में इन्वेस्ट कर रहे हो उसे ही कहते हैं foreign institutional investors. (DII) Domestic institutional investors का मतलब होता है आप अपने देश में ही निवेश कर रहे हो उसी को कहते हैं Domestic institutional investors.

Q. FII को कौन रेगुलेट करता है?
Ans. कि यह किसी कंपनी में कितना निवेश कर सकती हैं सेभी यह Security Exchange Board of India के कानून के अकॉर्डिंग इंडिया में रेफर किसी कंपनी में उसकी पेड-अप कैपिटल का मैक्सिमम 24% तक यह इन्वेस्ट कर सकती हैं

यदि आपको ये FII and DII Data 2030 की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Discover more from Invest Kare

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading