गोल्ड इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिजनेस कैसे शुरू करें Gold Import Export Business In India?

गोल्ड इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिजनेस कैसे शुरू करें Gold Import Export Business In India?

How to start gold import export business in India :- Gold, कीमती धातु को हमेशा भारत में शुभ माना गया हैऔर इंडिया के अंदर गोल्ड के गहने पहना बहुत शुभ माना जाता है  लेकिन इंडिया के अन्दर इतना ज्यादा सोना नही है और इसलिए दुसरे देशो के अन्दर सोना इंडिया के अन्दर एक्सपोर्ट किया जाता है  इसलिए आज इंडिया के अंदर सोना इतना ज्यादा महंगा है और इंडिया के अंदर आज बहुत सारे गोल्ड का बिजनेस करते हैं

Gold Import Export Business

इंडिया के अन्दर Gold का बिज़नेस कई प्रकार से होता है बहुत से gold की शॉप  से पैसे कमाते है और और बहुत से Gold Import Export Business करते है जिसमे वह दुसरे देशो से gold एक्सपोर्ट करते है इस आर्टिकल में हम आपको बतायेंगे की Gold Import Export Business कैसे शुरु करे Gold Import Export Business के अन्दर कितना खर्चा करना पड़ता है |

गोल्ड इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिजनेस के लिए जरूरी चीजे ( Requirements )

Gold Import Export Business Requirements :- इस Business को शुरु करने के लिए बहुत सी चीजो की जरुरत तो नहीं पड़ती लेकिन फिर भी जिन चीजों की जरुरत Business  के आकार पर निर्भर करती है क्योकि ये बिज़नेस घर से शुरु कर सकते है या फिर कोई दूकान किराए पर लेके ये काम शुरु कर सकते है ,

  • Office
  • इन्वेस्टमेंट (Investment)
  • मार्केटिंग
  • बिजली की सुविधा (Electricity, water facilities)
  • GST Number
  • लाइसेंस

एंटी पंचर टायर सीलेंट का बिज़नेस कैसे शुरु करे

गोल्ड इम्पोर्ट एक्सपोर्ट बिजनेस के लिए के लिए इन्वेस्टमेंट

Investments For Gold Import Export Business  :- इस बिज़नेस के अन्दर निवेश इस Business और Office के ऊपर निर्भर करता है क्योकि यदि बड़ा Business शुरु करते है तो ज्यादा इन्वेस्टमेंट (Investment) करनी पड़ती है और छोटा बिज़नेस शुरु करते है ( Internet Provider  Business hindi ) तो उसके अन्दर कम इन्वेस्टमेंट (Investment) करनी पड़ती है

और खुद का Office  है तो कम पैसो में काम चल सकता है और यदि  Office   किराये पर लेते है या खरीदते है तो उसके अन्दर ज्यादा इन्वेस्टमेंट  (Investment)करनी पड़ती है  इसके अन्दर ज्यादा इन्वेस्टमेंट तो लाइसेंस के उपर करनी पड़ती है

गोल्ड फर्म खोलने के नियम Rules for Opening a Firm

एक निर्यात फर्म शुरू करना एक लंबी प्रक्रिया है और उद्यमी को इसके लिए कड़े नियमों का पालन करने की आवश्यकता होती है। सबसे पहले, आपको प्रोपराइटरशिप, पार्टनरशिप, लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप, प्राइवेट कंपनी, लिमिटेड कंपनी, ट्रस्ट, रजिस्टर्ड सोसाइटी और एचयूएफ के रूप में बिजनेस एंटिटी की प्रकृति को चुनना होगा, फिर बिजनेस को रजिस्टर्ड कराना होगा।

इसके अलावा, निर्यात संचालन करने का तरीका चुनना जैसे – एक व्यापारी निर्यातक, निर्माता निर्यातक या व्यापारी सह निर्माता निर्यातक के रूप में महत्वपूर्ण है। फर्म को माल और सेवा कर विभाग, भारत के साथ Register करना भी आवश्यक है।

15 से 30 हजार रूपये में शुरू करे ये बिजनेस

खाता खोलना, लाइसेंस Account Opening, License

खाता खोलना, लाइसेंस आयातक-निर्यातक कोड (आईईसी) संख्या के आवंटन के लिए आवेदन करने के लिए प्रस्तावित Business फर्म के नाम पर एक खाता खोलना होगा, और यहां एक पैन कार्ड आवश्यक होगा। यह निर्यात कारोबार के लिए फर्म के लिए कानूनी लाइसेंस होगा।

GJEC सूचित करता है, “IEC के लिए एक आवेदन https://dgft.gov.in/CP/ IEC Profile Management पर ANF 2A के अनुसार ऑनलाइन दायर किया जाता है।” विदेशी मुद्रा में सौदा करने के लिए अधिकृत बैंक के साथ एक चालू खाता खोलना होगा, जबकि बैंक द्वारा सीमा शुल्क के साथ पंजीकरण करने के लिए एक अधिकृत डीलर कोड (एडी कोड) जारी किया जाएगा।

Personal Document (PD) :- Personal Document के अन्दर बहुत से डॉक्यूमेंट होते है जैसे :

  • ID Proof :- Aadhaar Card , Pan Card , Voter Card
  • Address Proof :- Ration Card , Electricity Bill ,
  • Bank Account With Passbook
  • Photograph Email ID , Phone Number ,
  • Other Document

बिजनेस Document (PD)

  • Business Registeration
  • Business pan card
  • GST Number

जूतों का होलसेल बिज़नेस कैसे करे 

Dispatch, Custom Clearance और शिपमेंट

अंतिम चरण शिपमेंट भेजना है। एक बार जब आप पैकिंग के साथ हो जाते हैं, तो आप माल को पारगमन के लिए बंदरगाहों या हवाई अड्डों पर भेज सकते हैं। प्रत्येक [बंदरगाह पर सभी कस्टम नियमों और प्रक्रियाओं का पालन करना आवश्यक है। उसके बाद, अपने शिपमेंट बिल के मुद्दों को प्राप्त करें। आप शिपमेंट बिलों के लिए क्लियरिंग हाउस एजेंट (CHA) भी रख सकते हैं।

निकासी के बाद, आपका माल निर्यात के लिए तैयार है। एक बार आपका शिपमेंट निर्यात हो जाने के बाद, आपको शिपमेंट के लिए भुगतान प्राप्त होगा। सोने के निर्यात व्यवसाय में खातों का सावधानीपूर्वक प्रबंधन शामिल है। यह एक उच्च जोखिम वाला व्यवसाय है, इसलिए आपको लेखांकन प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने की आवश्यकता है। व्यवसाय के लेखांकन लेनदेन को ट्रैक और प्रबंधित करने के लिए आप OKCredit ऐप का उपयोग कर सकते हैं।

Best Seasonal Business Ideas In India 2022 

कस्टम नियम Custom Rules

कस्टम नियम Ice Gate पोर्टल का EDI सिस्टम AD कोड के बिना शिपिंग बिल बनाने की अनुमति नहीं देता है। साथ ही, यह याद रखना एक महत्वपूर्ण कस्टम नियम है कि निर्यात माल की निकासी के लिए शिपिंग बिल दाखिल करने से पहले सीमा शुल्क से एक पैन-आधारित व्यवसाय पहचान संख्या (बीआईएन) प्राप्त की जानी चाहिए।

जीजेईसी ने कहा, “निर्यातकों को अनिवार्य रूप से संबंधित निर्यात संवर्धन परिषदों/एफआईईओ/कमोडिटी बोर्ड/प्राधिकारियों द्वारा प्रदान किया गया पंजीकरण सह सदस्यता प्रमाणपत्र (आरसीएमसी) प्राप्त करना आवश्यक है”, ताकि एफटीपी 2015 के तहत आयात/निर्यात/किसी अन्य लाभ या रियायत के लिए प्राधिकरण प्राप्त किया जा सके। -20. अंत में, आपकी फर्म को समुद्री/हवाई बीमा कवर के लिए किसी बीमा कंपनी को आवेदन करना चाहिए।

1 लाख रूपये में शुरू करें यह बिजनेस

यदि आपको यह  Gold Import Export Business की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social Media Sites Share कीजिये Paint shop Business Hindi

You might also like
Leave a comment