Business

आईएसओ सर्टिफिकेशन के लिए अप्लाई कैसे करे ISO Certification Registration Apply Hindi

आईएसओ सर्टिफिकेशन के लिए अप्लाई कैसे करे ISO Certification Registration Apply Hindi | ISO Certification Registration Process

अपने बहुत  बहुत से प्रोडक्ट के ISO 9001 Certification का टैग मिलता है  बहुत से बिज़नेस इसके बारे में जानते है यह  किस लिए होता है लेकिन बहुत से बिज़नेस जो न्य न्य बिज़नेस शुरु करना चाहते है उनको इसके बारे में इतनी जानकारी नही होती है और उनको बाद में जब पता चलता है की ISO 9001 Certification बहुत जरुरी है

तो वह इसके लिए अप्लाई करना चाहते है और बहुत सी जगह इधर उधर जाते है तो कोई भी भी person यदि अपना बिज़नेस शुरु करना चाहता है और वह जाना चाहता की आईएसओ सर्टिफिकेशन क्या है इसके क्या फायदे है या फिर इसके लिए अप्लाई कैसे कर सकते है तो इस आर्टिकल में ISO Certification  Process के बारे में विस्तार से बताया गया है | ISO Certification Registration Process

एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन कैसे करे 

ISO Certification क्या होता है

ISO certificate एक Quality Standards Certificate है जो किसी भी प्रकार के प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी को लेना पड़ता है यह इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड आर्गेनाइजेशन है जो Certificate देती है इसके अन्दर 155 से भी ज्यादा देश सदस्य है  इन देशो के अन्दर इस आर्गेनाइजेशन  द्वारा Certificate दिए जाते है

ये Certificate  किसी business के उत्पाद व सेवाओं की गुणवत्ता, सुरक्षा और क्षमता के standards प्रदान करता है आज Businesses के बीच बढ़ते हुए competition  के साथ साथ ग्राहकों को अच्छी गुणवत्ता के उत्पाद और सेवाएँ उपलब्ध करने के लिए  बहुत से कदम उठाये जा रहे है तभी ऐसे Certificate  लेने पड़ते है जिस से लोग प्रोडक्ट पर लोग भरोसा कर सके इसलिए आज सभी बिज़नेस के लिए  ISO Certification बहुत जरूरी है |

ISO Registration के प्रकार

आज सभी Entrepreneur को Business की जरूरत के हिसाब से ISO Certification का प्रकार Choose करना पड़ता है | कुछ ISO Certification के प्रकार यह दिए गए है:-

  • ISO 9001:2008 – Quality Management System
  • OHSAS 18001 – Occupational Health & Safety Management System
  • ISO 37001 – Anti-bribery Management System
  • ISO 31000 – Risk Management
  • ISO 27001 – Information Security Management System
  • ISO 10002 – Complaint Management System
  • ISO 14001:2015 – Environment Management System
  • ISO 26000 – Social Responsibility
  • ISO 28000 – Security Management
  • ISO 22008 – Food Safety Management
  • SA 8000- Social Accounting
  • ISO 639 – Language Code
  • ISO 4217 – Currency Code
  • ISO 3166 – Country Code
  • ISO 8601 – Data and time format
  • ISO 20121 – Sustainable Events

उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन कैसे करे

आईएसओ सर्टिफिकेशन के लिए दस्तावेज

  • Plan of the processing unit
  • List of Directors/ Partners/ Proprietor with address, contact details, and photo ID
  • Name and list of equipment and machinery
  • List of food category
  • Authority letter from manufacturer nominated a responsible person name and address
  • Analysis report of water to be used in the process to confirm the portability
  • Proof of possession of premises
  • Partnership deed/ affidavit of proprietorship
  • NOC and copy of License from the manufacturer
  • Copy of certificate obtained under Coop Act 1861/Multi state Coop Act 2002

जीएसटी नंबर के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करे 

आईएसओ सर्टिफिकेशन के लिए Application Fee

ISO Certification की fee अलग अलग बिज़नेस के लिए अलग अलग है जैसे ISO certification agency, ISO Certification cost अलग अलग parameters के हिसाब से अलग अलग calculate होती है |

  • कर्मचारियों की संख्या
  • प्रक्रियाओं की संख्या
  • बिज़नेस का आकार
  • संगठन से जुड़े हुई सेवाओं के scope से जुड़े हुए risk का level
  • Management system की complexity
  • Working shifts की संख्या |

आईएसओ सर्टिफिकेशन की प्रक्रिया का समय

ISO Certification  की पूरी प्रक्रिया को पूरा करने में लगने वाला समय भी एक संगठन से दूसरे संगठन में भिन्न होता है। कंपनी के आकार का आकलन करने के बाद आईएसओ प्रमाणन एजेंसी द्वारा उचित विचार दिया जा सकता है। आम तौर पर, आईएसओ प्रमाणन की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आवश्यक समय अनुमानित है:

  • Small Organisation: 6-8 months
  • Medium Organisation: 8 -12 months
  • Large Organisation: – 12 -15 months

लेबोरेटरी बिज़नेस कैसे शुरु करे

आईएसओ सर्टिफिकेशन के लाभ

  • यदि बिज़नेस का ISO Certification है तो कस्टमर उस प्रोडक्ट पर भरोसा करेंगे और ग्राहक को संतुष्टि मिलती है |
  • ISO Certification वाले बिज़नेस के पास सरकारी ठेके (Tenders) बहुत ज्यादा मिलते है क्योकि सरकारी ठेके की बोली (bid) के लिए भी ISO Registration का होना जरूरी है |
  • ISO 9001 Certificate सिर्फ उसी बिजनेस इकाई को जारी किया जाता है जिनके उत्पादों की गुणवत्ता तय मानकों के अनुरूप होती है। इस कारण उद्यमी के आर्डर रिजेक्ट होने के खतरे काफी कम हो जाते हैं।
  • इस से marketing में बहुत ज्यादा सहायता होती है
  • ISO Certification बाहरी विदेशो में बिज़नेस को बढ़ाने के लिए बहुत ज्यादा जरुरी है | ISO Certification Registration Process

भारत में आईएसओ Certification की प्रक्रिया

आईएसओ आवेदन का एक ऑनलाइन फॉर्म पूरी जानकारी और संबंधित दस्तावेजों से भरा जाना है। कुछ डेटा बिज़नेस की प्रकृति, कंपनी के पते और संचालन के वर्षों के विवरण की तरह होंगे।

पंजीकरण प्रकार . पर परामर्श

चूंकि आईएसओ के पास कई प्रकार के प्रमाणन हैं और इसलिए यह अत्यधिक अनुशंसा की जाती है कि आप एक विशेषज्ञ से परामर्श करके सर्वोत्तम मान्यता मानक का चयन करें जो फिट बैठता है।

दस्तावेज़ जमा करना

आवेदन के साथ जमा किए गए प्रत्येक दस्तावेज को verified किया जाता है और जानकारी की दोबारा जांच की जाती है। फिर उन्हें संबंधित आईएसओ रजिस्ट्रार के पास दायर किया जाता है। एक बार सबमिशन की पुष्टि हो जाने के बाद, ऑनलाइन भुगतान उपलब्ध विभिन्न भुगतान विधियों में से एक के माध्यम से किया जाना चाहिए।

आईएसओ ऑडिट

ISO ऑडिट आपके व्यवसाय के प्रक्रिया रिकॉर्ड की वास्तविकता की जांच करने के लिए एक परीक्षा या सत्यापन है। तीन मुख्य प्रकार के ऑडिट हैं:

First Party Audit or Internal Audit:: आंतरिक रूप से आपके अपने कर्मचारियों द्वारा आयोजित किया जाता है जो प्रशिक्षित हैं। यह किसी बाहरी कंपनी द्वारा भी किया जा सकता है।
Second Party Audit or Supplier Audit :- आपके संगठन में लीड ऑडिटर्स द्वारा किया जाता है। यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि आपके आपूर्तिकर्ता ठीक से काम करें और आपको उत्पादों/सेवाओं की आपूर्ति सही ढंग से हो। आंतरिक ऑडिट के रूप में, ये बाहरी एजेंसियों द्वारा भी किए जा सकते हैं यदि आपके पास योग्य संसाधन नहीं हैं।
Third party audit or certification audit :- यह केवल सर्टिफिकेशन बॉडीज के ऑडिटर्स द्वारा ही किया जाना चाहिए।
प्रस्तुत किए गए दस्तावेजों के आधार पर, व्यवसाय के लिए एक आईएसओ ऑडिट किया जाता है जिसमें दस्तावेजों की वास्तविकता की जांच की जाती है। प्राधिकरण तब परिभाषित प्रक्रियाओं के आधार पर निर्णय लेता है।

यदि आपको यह ISO Certification Registration Process की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये | ISO Certification Registration Process

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button