मिशन कर्मयोगी योजना 2022 Mission Karmayogi Yojana 2022

मिशन कर्मयोगी 2022 Mission Karmayogi Yojana  2022

2 सितंबर 2020 को सरकार द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मिशन कर्मयोगी योजना को मंजूरी दे दी गई है। यह योजना सिविल अधिकारियों की क्षमता बढ़ाने के लिए आरंभ की गई है।Mission Karmayogi Yojana के माध्यम से सरकारी कर्मचारियों का स्किल डेवलपमेंट किया जाएगा। यह स्किल डेवलपमेंट ट्रेनिंग प्रदान करके, ऑनलाइन कंटेंट प्रदान करके किया जाएगा। इस योजना के अंतर्गत ऑन द साइड ट्रेनिंग पर अधिक ध्यान दिया जाएगा।

Mission Karmayogi Yojana Hindi 2022

प्रधानमंत्री डिजिटल स्वास्थ्य मिशन 2022

यह योजना एक कौशल निर्माण कार्यक्रम है। इस योजना के माध्यम से सरकारी अधिकारियों की काम करने की शैली में भी सुधार आएगा। इस योजना के अंतर्गत नियुक्ति के बाद सिविल अधिकारी की क्षमता बढ़ाने के लिए उन्हें ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी। जिससे कि अधिकारियों का प्रदर्शन बेहतर हो पाएगा। Mission Karmayogi Yojana 2021 के दो मार्ग होंगे सव चलित तथा निर्देशित। यह योजना पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में चलाई जाएगी। जिसमें नई एचआर परिषद, चयनित केंद्रीय मंत्री तथा मुख्यमंत्री शामिल होंगे।

स्पेशल परपज व्हीकल का रोल Mission Karmayogi Yojana Hindi 2022

Role of special purpose vehicle :- मिशन कर्मयोगी योजना के अंतर्गत एक स्पेशल पर्पस व्हीकल, कंपनी अधिनियम 2013 के सेक्शन 8 के अंतर्गत स्थापित किया जाएगा। यह स्पेशल परपज व्हीकल एक नॉनप्रॉफिट कंपनी होगी। जो कि iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म को मैनेज करेगी। स्पेशल परपज व्हीकल के अंतर्गत निम्नलिखित कार्य किए जाएंगे :-

  1. मेड इन इंडिया प्लेटफार्म को बढ़ावा दिया जाएगा।
  2. डिजिटल प्लेटफॉर्म को डिजाइन, इंप्लीमेंट तथा मैनेज किया जाएगा।
  3. टेलिमेटरी डाटाबेस स्कोरिंग, मॉनिटरिंग एंड एवल्यूशन ।
  4. फीडबैक एसेसमेंट।

मिशन कर्मयोगी योजना का उद्देश्य

Objective of Mission Karmayogi Scheme :- मिशन कर्मयोगी योजना का मुख्य उद्देश्य सरकारी कर्मचारियों की क्षमताओं को विकसित करना है। इसके लिए सरकार द्वारा कई सारे संशोधन किए जाएंगे। जैसे कि कर्मचारियों को ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी, E-Learning Content प्रदान किया जाएगा। इस योजना के माध्यम से सरकारी कर्मचारियों की कार्य क्षमता को बढ़ाया जाएगा। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मिशन कर्मयोगी का लक्ष्य भविष्य के लिए भारतीय सिविल सेवक को अधिक रचनात्मक, कल्पनाशील, सक्रिय, पेशेवर, प्रगतिशील, ऊर्जावान, सक्षम, पारदर्शी और प्रौद्योगिकी-सक्षम बनाकर तैयार करना है।

उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना

Key Highlights Of Mission Karmayogi Yojana 2022

योजना का नाम मिशन कर्मयोगी योजना (NPCSCB)
 NPCSCB फुल-फॉर्म सिविल सेवा क्षमता निर्माण के लिए नया राष्ट्रीय वास्तुकला
शुरू किया गया भारत सरकार द्वारा
प्रारंभ तिथि 2 सितंबर 2020
लाभार्थी सरकारी कर्मचारी / सिविल सेवक
उद्देश्य क्षमता निर्माण और कर्मचारी का कौशल विकास
आधिकारिक वेबसाइट www.pmindia.gov.in

 

मिशन कर्मयोगी योजना की विशेषताएं Mission Karmayogi Yojana Hindi 2022

Features of Mission Karmayogi Scheme 2022 :- 

  • मिशन कर्मयोगी योजना का आरंभ 2 सितंबर 2020 को किया गया है।
  • इस योजना का संचालन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में किया जाएगा।
  • मिशन कर्मयोगी योजना के माध्यम से सिविल अधिकारियों की क्षमता बढ़ाने का ट्रेनिंग के माध्यम से प्रयास किया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत ऑन द साइड ट्रेनिंग पर अधिक ध्यान दिया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से प्रणाली में पारदर्शिता आएगी तथा अधिकारियों के काम करने की शैली में भी सुधार आएगा।
  • Mission Karmayogi Yojana 2022 के दो मार्ग होंगे सर्व चलित तथा निर्देशित।
  • इस योजना में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ एक नई एचआर परिषद , चयनित केंद्रीय मंत्री तथा मुख्यमंत्री शामिल होंगे।
  • योजना के सफलतापूर्वक संचालन के लिए iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म का भी गठन किया गया है ल। जिसके माध्यम से ऑनलाइन कांटेक्ट उपलब्ध कराया जाएगा।
  • मिशन कर्मयोगी योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा 5 वर्षों के लिए 510.86 करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया गया है।
  • यह योजना लगभग 46 लाख केंद्रीय कर्मचारियों के लिए हैं।

  बिहार फ्री लैपटॉप योजना की पूरी जानकारी

कर्मयोगी योजना मिशन के अंतर्गत विकसित किया जाने वाला कौशल

Skills to be developed under Karmayogi Yojana Mission :- Mission Karmayogi Yojana 2022 के अंतर्गत सरकारी कर्मचारियों के कौशल विकास करने पर ध्यान दिया जाएगा। इस योजना के माध्यम से कर्मचारियों के कई सारे कौशलों को विकसित किया जाएगा। जिसमें से कुछ इस प्रकार है :-

  • क्रिएटिविटी (Creativity)
  • कल्पनाशीलता (Imagination)
  • इनोवेटिव (Innovative)
  • प्रोएक्टिव (Proactive)
  • प्रगतिशील (Progressive)
  • ऊर्जावान (Energetic)
  • सक्षम (Able)
  • पारदर्शी (Transparent)
  • तकनीकी तौर पर दक्ष आदि। (Technically proficient etc.)

ऑनलाइन प्रशिक्षण के लिए iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म

iGOT Karmayogi Platform for Online Training :- 

  • परिवीक्षा अवधि के बाद की पुष्टि
  • तैनाती
  • कार्य निर्धारण
  • रिक्तियों की अधिसूचना
  • अन्य सेवा मायने रखती है

फेम इंडिया योजना  

मिशन कर्मयोगी योजना सिविल सेवा में किये गए बदलाव

Changes made in Mission Karmayogi Yojana Civil Service :- सिविल सेवा से जुड़े सभी सरकारी अधिकारी तथा कर्मचारी किसी भी समय इस योजना के अंतर्गत प्रदान की जा रही ट्रेनिंग से जुड़ सकते है। इस योजना के तहत सरकारी अधिकारियो और कर्मचारियों की क्षमता को बढ़ाने के लिए मोबाइल ,लैपटॉप आदि के माध्यम से ट्रेनिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

इस ट्रेनिंग में अलग अलग विभाग के टॉप सलाहकारों को भी शामिल किया जायेगा। इसमें ऑफ साइट सीखने के कॉन्सेप्ट को बेहतर बनाते हुए ऑन द साइट सीखने के सिस्टम पर भी बल दिया गया है | Mission  yojana के लिए सरकार द्वारा 5 साल का बजट बना दिया गया है जिसमे कुल 510.86 करोड़ निर्धारित किया गया है।

मिशन कर्मयोगी योजना 2022 संस्थागत ढांचा

Mission Karmayogi Yojana 2022 Institutional Framework :-

मिशन कर्मयोगी योजना को हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अध्यक्षता में चलाया जाएगा। जिसमें केंद्रीय मंत्री तथा मुख्यमंत्री भी शामिल किए जाएंगे। इसी के साथ प्रधानमंत्री के सार्वजनिक मानव संसाधन परिषद, क्षमता निर्माण आयोग, ऑनलाइन परीक्षण के लिए iGOT तकनीकी मंच, स्पेशल परपज व्हीकल तथा कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता वाली सामान्य इकाई भी शामिल की गई है।

iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म क्या है ? :- iGOT कर्मयोगी प्लेटफॉर्म के माध्यम से डिजिटल लर्निंग सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी। iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म को एक ई लर्निंग सामग्री के लिए विश्व स्तरीय बाजार बनाने का भी प्रयास किया जा रहा है। iGOT कर्मयोगी के माध्यम से कर्मचारियों का क्षमता निर्माण ई लर्निंग कांटेक्ट के माध्यम से किया जाएगा। इसी के साथ उन्हें कई अन्य सुविधाएं भी प्रदान की जाएंगी। जैसे कि परिवीक्षा अवधि के बाद की पुष्टि, तैनाती, कार्य निर्धारण, रिक्तियों की अधिसूचना आदि।

मिशन कर्मयोगी योजना बजट :- मिशन कर्मयोगी योजना के लिए सरकार द्वारा 5 वर्षों की अवधि के लिए 510.86 करोड रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। जो कि लगभग 46 लाख केंद्रीय कर्मचारियों के लिए है। इस योजना के अंतर्गत एक स्वामित्व वाली विशेष प्रयोजन वाहन (special purpose vehicle) कंपनी का गठन किया जाएगा। जो कि कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के अंतर्गत किया जाएगा। यह एक non-profit ऑर्गेनाइजेशन होगी जो iGOT कर्मयोगी प्लेटफार्म का स्वामित्व और प्रबंधन करेगी।

स्फूर्ति योजना हिंदी 

यदि आपको यह Mission Karmayogi Yojana 2022 In Hindi की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये |

You might also like
Leave a comment