Latest News

करियर को स्‍पीड देने के लिए बेहतर कम्‍युनिकेशन स्किल Communication Skills

करियर को स्‍पीड देने के लिए बेहतर कम्‍युनिकेशन स्किल Communication Skills | improve communication skills Hindi

How to improve communication skills in Hindi :- अगर आप भी किसी प्राइवेट सेक्टर में नौकरी कर रहे हो और आप अपनी पर्सनालिटी को डेवलप करना चाहते है और किसी भी प्राइवेट सेक्टर में अपनी पर्सनालिटी को दुसरो से अलग बनाना चाहते हो  तो  आज की पोस्ट में

हम आपको Communication Skills Improve kaise Kare इसके बारे में जानकारी प्रदान करेंगे। आप भी अपनी कम्यूनिकेशन स्किल्सको सुधारना चाहते है तो आज की पोस्ट आपके लिए है। हम आपको बताएँगे की आप किस तरह से अपनी Communication Skills को सुधार सकते है।

Communication Skills Kya Hai (कम्युनिकेशन स्किल क्या है?)

इसका मतलब होता है की बातचीत करना या फिर आप कभी दो लोगो के बीच में बातचीत कर रहे हो और कैसे आप उनसे अच्छे से बातचीत कर सकते है तो ऐसा करने के लिए आपको सबसे पहले अपनी Communication Skills को बेहतर करना होता है। एक प्रभावी कम्युनिकेशन स्किल किसी भी व्यक्ति को अपनी ओर आकर्षित करने का एक मुख्य माध्यम होता है कम्यूनिकेशन स्किल्स जितनी बेहतर होती है

आप लोगो को अपनी बात को सही तरीके से समझा सकते है। और अपनी बात भी दुसरो को अछे से बता सकते हो इसके लिए आपको कई बातों का ध्यान रखना होता है।

Amazon Seller कैसे बनें? Amazon पर सामान कैसे बेचते हैं?

How To Improve Communication Skills in Hindi

अपने Communication Skills या संचार कौशल को बेहतर बनाने के लिए कुछ विशिष्ट कदम उठाए जा सकते है। इनमें से कुछ तरीकों को नीचे सूचीबद्ध किया गया है।

  • बॉडी लैंग्वेज सही रखे
  • बाते ध्यान से सुने
  • कॉंफिडेंट और सकारात्मक रहे
  • आई कांटेक्ट रखे
  • पॉइंट टू पॉइंट बात करे
  • सही शब्दों का प्रयोग करे
  • व्यक्ति को समझे
  • रोज प्रैक्टिस करे
  • रिस्पेक्ट दे
  • बात पूरी करे

बॉडी लैंग्वेज सही रखे:- Communication में सबसे महतवपूर्ण भूमिका आपकी बॉडी लैंग्वेज की होती है जब आप किसी से बात करते है तो वह आपकी बॉडी से भी दिखाई देती है। कि आप बोल कुछ और रहे है और आपकी बॉडी लैंग्वेज कुछ और बोल रही हो। यह फर्स्ट इम्प्रैशन होता है किसी से कम्यूनिकेट करने का। इसलिए अपनी बॉडी लैंग्वेज पर कंट्रोल होना बहुत ज़रुरी है।
बाते ध्यान से सुनना :- जब आप किसी से बातचीत कर रहे हो तो आपको दुसरो की बातो को भी ध्यान से सुनना चाइये क्युकी अगर आप किसी की बात को ध्यान से नही सुनते हो तो आप उसको जवाब से अछे से नही दे सकते इसलिए एक अछी Communication होना बहुत जरुरी होता है
कॉंफिडेंट और सकारात्मक रहे:- अगर आप किसी से बात करते हो तो आपको अंदर से फिल होना चाहिए की आप अपनी बात को बहुत ही अछे से दुसरो के सामने रख रहे हो अगर आप ऐसा नही करते हो तो आपकी Communication सकती बहुत ही कमजोर है
आई कांटेक्ट रखे:- जब आप किसी से बातचीत करते है तो आपको तो आपको उनसे आई कन्टेन्ट करके बात करनी चाहिए अगर आप बात करते टाइम व्यक्ति की आखो में देख कर के बात करते है तो आपका आत्मविश्वास और भी बढ़ जाता है और सामने वाला व्यक्ति आपसे बोलने और सुनाने में भी रूचि रखता है अगर आप ये सब नही करते है तो सामने वाले को लगे गा की आप उनकी बातो को बिलकुल भी ध्यान से नही सुन रहे हो
पॉइंट टू पॉइंट बाते करना:- जब हम किसी से भी बाते करते है उस टाइम हमें अपनी बातो को पॉइंट टू पॉइंट बताना चाहिए अगर हम ऐसा नही करते है तो सामने वाला हमारी बातो को बिलकुल भी ध्यान से नही सुनेगा और ना ही हमारी कोई बात सामने वाले को समझ आती है
सही शब्दों का उपयोग करना:- जब आप किसी से बातचीत करते है तो आपको सही शब्दों का चयन करना चाहिए अगर आप ऐसा नही करते है तो सामने वाला आपकी बातो को ध्यान से नही सुनेगा अगर आप अछे सब्दो का उपयोग करते है तो जितने भी आपकी बातो को सुन रहे है उन सभी को आपकी बाते अछी लगेगी
व्यक्ति को समझे:- आप जब भी किसी से बातचीत करते है तो आपको बहुत ही सोच समझ कर बोलना चाहिए कुकी किसी की उम्र अलग होती तो किसी का प्रोफेसन भी अलग होता है जैसे अगर आप किसी छोटे बच्चे से बात करते है तो उसका तरीका अलग होता है और जब आप किसी ज्यादा उम्र के व्यक्ति से बात करते है तो उसका तरीका अलग होता है और जब आप ऑफ़िस में रहते है तो वहां पर बात करने का तरीका अलग होता है। इसी तरह सभी व्यक्तियों से बात करने का तरीका अलग होता है।
रोज प्रैक्टिस करे:- आपको अपने कम्युनिकेशन स्किल्स को बहुत बेहतर करना चाहिए अगर आप रोज अभ्यास करते है तो आप अपनी COMNICATION को बहुत ही बेहतर बना सकते हो
 रिस्पेक्ट दे :- यदि आप सामने वाले की बातों को रिस्पेक्ट देते है तो वह आपसे आगे और बात करने में रूचि रखते है। इसलिए सामने वाले की बातों का ध्यान रखे और उनकी बातों को रिस्पेक्ट दे नहीं तो कन्वर्सेशन बोर लगने लगेगी।
 बात पूरी करे :- कभी भी अपनी बातों को अधूरा ना छोड़े बात को पूरा करे और सामने वाले की बात को भी पूरा होने दे। उनकी बातों को भी ना काटे, नहीं तो सामने वाले व्यक्ति को लगेगा की आपको उनकी बातों में रूचि नहीं है। एक टीम या समूह में, दूसरों को बिना किसी रुकावट के बोलने की अनुमति देना एक आवश्यक संचार कौशल के रूप में देखा जाता है।

हार्ड स्किलस क्या होती हैं? What is Hard Skills

Hard Skills तकनीकी ज्ञान या प्रशिक्षण है जिसे आपने अपने कैरियर या शिक्षा सहित किसी भी जीवन के अनुभव के माध्यम से प्राप्त किया जाता है यानी कि अगर आप किसी SCHOOL या College में या किसी भी शिक्षण संस्थान में कोई डिग्री ग्रहण करते है तो हम Hard Skills ले रहे हैं जो हमे रोजगार दिलाएगी हार्ड स्किल में वे सभी काम को देखा जाता है जिसमे आप अपने दिमाख का उपयोग करते है जैसे किसी भी काम को करते है या फिर आप COLLEGE में या SCHOOL में कोई काम करते है या फिर आप कंप्यूटर पर भी कोई भी काम करते है तो उसे हम हार्ड स्किल कहते है |

Hard Skills Examples

  • A degree (or other academic qualification)
  • An industry specific certification.
  • Coding ability.
  • Foreign language skills.
  • Typing speed.
  • SEO marketing.
  • Bookkeeping.
  • Computer skills.

Vi मोबाइल टावर कैसे लगवाए

सॉफ्ट स्किलस क्या होती हैं? What is Soft Skills

Hard Skills and Soft Skills मे सॉफ्ट स्किलस काफी अलग होती हैं हार्ड स्किल्स से। सॉफ्ट स्किल्स वह होती हैं जो व्यक्ति के Behaviour, confidence,उसकी Leadership ओर उसकी Critical Thinking Skills जैसे तथ्यों पर निर्भर करती हैं सॉफ्ट स्किलस को people skills , social skills , communication skills , कैरेक्टर, एटीट्यूड, पर्सनालिटी, माइंडसेट, केरियर एट्रीब्यूट्स, टाइम मैनेजमेंट आदि पर निर्भर करती हैं। इन सभी चीजो से जुड़ी हुई स्किलस को ही Soft Skills कहा जाता हैं यह वह स्किल्स होती है जिन्हें बिना Academic Knowledge के प्राप्त किया जाता हैं। सॉफ्ट स्किलस को personal skills भी कहा जा सकता हैं। उदाहरण के तौर पर Communication Skills को सॉफ्ट स्किल्स में शामिल किया जाता है |

Soft Skills Examples

  • Communication.
  • Teamwork.
  • Problem-solving.
  • Time management.
  • Critical thinking.
  • Decision-making.
  • Organizational.
  • Stress management.

यदि आपको यह improve communication skills Hindi की जानकारी पसंद आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social Media Sites Share कीजिये  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button