बादाम की खेती कैसे करे Almond Farming Planting Care, Harvesting Badam

बादाम की खेती कैसे करे Almond Farming Planting Care, Harvesting Badam

बादाम गुलाब परिवार का एक मध्यम आकार का पेड़ है। यह आड़ू, बेर और खुबानी जैसा दिखता है। आड़ू की तरह, बादाम में एक कठोर बाहरी आवरण में खाने योग्य बीज होते हैं। परिपक्व होने पर, बादाम का छिलका खुल जाता है, बादाम के नट को सूखने के बाद कठोर खोल से आसानी से अलग किया जा सकता है। बादाम दो प्रकार के होते हैं क) मीठे बादाम ख) कड़वे बादाम।

Almond cultivation india Hindi

बादाम का उपयोग विभिन्न प्रयोजनों के लिए किया जाता है जैसे मिठाई, दूध, भोजन में उपयोग किए जाने वाले मेवे और तेल बनाने में उपयोग किया जाता है। भारत में बादाम की खेती, उत्तराखंड, केरल और आंध्र प्रदेश  कश्मीर क्षेत्र, हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश के चुनिंदा पहाड़ी क्षेत्रों तक ही सीमित है अमेरिका बादाम का सबसे बड़ा निर्यातक देश है. यहां के कैलिफोर्निया का बादाम पूरी दुनिया में मशहूर है |

बादाम के स्वास्थ्य लाभ

Health benefits of almonds :- बादाम सभी का सबसे पौष्टिक और स्वास्थ्यप्रद मेवा है, जिसे एक अच्छी तरह से संतुलित कोलेस्ट्रॉल मुक्त भोजन माना जाता है, इसे भारत में नट्स का राजा भी कहा जाता है। बादाम के कुछ स्वास्थ्य लाभ नीचे दिए गए हैं।

  • बादाम ‘खराब’ कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकते हैं।
  • बादाम दिल के दौरे के खतरे को कम कर सकता है।
  • बादाम स्वस्थ वसा प्रदान करते हैं और वजन घटाने में सहायता कर सकते हैं
  • बादाम मस्तिष्क को अच्छा कार्य प्रदान करते हैं।
  • बादाम दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

भारत में बादाम के स्थानीय नाम:

Local Names of Almond in India:

  • बादाम पप्पू (तेलुगु),
  • बादाम परुप्पु (तमिल),
  • बादामी (कन्नड़),
  • बादाम कायू (मलयालम),
  • बादाम (हिंदी, मराठी)।

भारत में बादाम की व्यावसायिक किस्में Almond cultivation india Hindi

Commercial varieties of almonds in India :-भारत में बादाम की खेती की जाने वाली कुछ व्यावसायिक किस्में नीचे दी गई हैं। नॉन-पैरिल, कैलिफ़ोर्निया पेपर शेल, मर्सिड, आईएक्सएल, शालीमार, मखदूम, वारिस, प्रणयज, अन्य उच्च उपज देने वाली किस्में हैं ने प्लस अल्ट्रा, प्रिमोर्स्कीज, पीयरलेस, कार्मेल, थॉम्पसन, प्राइस, बट्टे, मोंटेरे, रूबी, फ्रिट्ज, सोनोरा, पाद्रे। , और ले ग्रैंड।

बादाम की खेती के लिए आवश्यक जलवायु

Climate required for almond plantation :- बादाम के लिए जलवायु की आवश्यकता होती है जिसमें गर्मी का तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से 35 डिग्री सेल्सियस के बीच हो और ठंडी सर्दियों में पौधे की वृद्धि और कर्नेल भरने के लिए। खुले फूल – 2.2 सी तक ठंड का सामना कर सकते हैं, लेकिन पंखुड़ी गिरने के चरण में फूल 0.50 सी से – 1.1 सी पर क्षतिग्रस्त हो जाते हैं।

फूल थोड़े समय के लिए – 2.2 सी से – 3.3 सी तक तापमान का सामना कर सकते हैं लेकिन अगर कम तापमान लगातार बना रहता है लंबे समय तक वे आसानी से क्षतिग्रस्त हो जाते हैं।

बादाम के खेत और पौधों को तैयार करने का तरीका

बादाम  का पौधे एक बार लग जाने के बाद 40 से 50 वर्ष तक फल पैदावार देते है इसलिए बादाम की खेती करने से पहले खेत को अच्छे से तैयार कर लेना चाहिए सबसे पहले एक बार जुताई करके खेत को समतल बना लेना चाहिए खेत के समतल हो जाने के बाद प्रत्येक 5 से 8 मीटर की दूरी पर एक से आधे मीटर गढ्ढो को तैयार कर ले |

गढ्ढो के तैयार हो जाने के बाद सभी गढ्ढो में पुरानी गोबर की खाद में रासायनिक उवर्रक की उचित मात्रा को मिलाकर उसे गढ्ढो में अच्छी तरह से भर दे और लगभग एक महीना छोड़ दे | इस एक महीने के अन्दर आप अपने बाग के लिए अच्छी क्वालिटी के पौधे देखे |

बादाम की खेती के लिए पौधे कंहा से लाये | Almond cultivation india Hindi

आप बादाम के पौधे दो तरह से लगा सकते है एक तो आप बादाम से बीज से पौधा बना  सकते है दूसरा आप कलम से पौधा बना सकते है लेकिन आपको बता दे बादाम के बीजो से तैयार किये गए पौधे लगभग 8 वर्ष में फल देना आरम्भ कर देते है | जबकि कलम की सहायता से तैयार किये गए पौधे तीन से चार साल में फल देने शुरु कर देते है

इसलिए आप किसी सरकारी रजिस्टर्ड नर्सरी से इसके पौधों को खरीदकर खेत में लगाये जिस से वह जल्दी फल देंगे |

बादाम के पौधों के रोपण का सही समय और तरीका

Right time and method of planting almond plants :- बादाम के पौधों के लिए एक महीने पहले जो गड्डे बनाए थे वो सितंबर से अक्टूबर के महीने के दौरान 3 फीट x 3 फीट x 3 फीट के गड्ढे खोदने चाहिए और बादाम के पौधों को 6 मीटर X 6 मीटर 4.0 एमएक्स 4.0 मीटर और 3.5 मीटर X 3.5 मीटर – 2.5 की दूरी पर होने चाहिए।

और बादाम के पौधों को फरवरी से मार्च तक लगाया जाना चाहिए  इसलिए आप नर्सरी से पौधे लेके आये और सभी गड्ढे के बीच में लगाये फिर एक बार कुछ दिन के लिए उन्हें बांस की लकड़ी का सहारा दे जिस से वो हवा में गिरे नही |

बादाम के पेड़ की खाद और उर्वरक Almond cultivation india Hindi

बादाम का पेड़ एक भारी फीडर है। इसलिए, इसे अच्छी मात्रा में खाद और उर्वरकों की आवश्यकता होती है और इसकी सिफारिश की जाती है। सर्दी के मौसम (दिसंबर से जनवरी) के दौरान प्रत्येक पेड़ में 20 से 25 किग्रा/पेड़ की दर से अच्छी तरह से सड़ी हुई फार्म यार्ड खाद (एफवाईएम) डालना सबसे अच्छा है। उर्वरकों की मात्रा का प्रयोग पत्ती के पोषक तत्वों के विश्लेषण एवं मृदा परीक्षण के आधार पर करना चाहिए। हालांकि, आमतौर पर बादाम के पेड़ की उम्र के आधार पर निम्नलिखित सिफारिशों को अपनाया जा सकता है।

यूरिया को 2 से 3 भागों में बांटकर प्रयोग करना चाहिए। पहली छमाही खुराक डीएपी (पूर्ण) और एमओपी (पूर्ण) के साथ पखवाड़े में खिलने से पहले डालना चाहिए, यूरिया की दूसरी खुराक (1/4 वां) फल लगने के लगभग तीन सप्ताह बाद और यूरिया की तीसरी खुराक ( 1 / 4th) मई – जून में लागू किया जाना चाहिए। अगले सीजन में कलियों के फलने और उसके बाद के विकास को बढ़ावा देने के लिए लगभग 1.5 से 2% यूरिया का पर्ण स्प्रे भी दिया जा सकता है।

बादाम की खेती के लिए सिंचाई की मात्रा (Irrigation and Fertilizers)

बादाम के पौधों को अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है | इसके पौधों को विकास करने के लिए शुरुआत में अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है | गर्मियों के मौसम में सप्ताह में दो बार तथा सर्दियों के मौसम में एक बार पानी देना ही पर्याप्त होता है | किन्तु जब पौधा पूर्ण रूप से विकसित हो जाये तो वर्ष में 5 से 8 सिंचाई की आवश्यकता होती है | बादाम के पौधों की सिंचाई में ड्रिप इरिगेशन वाटरिंग विधि का इस्तेमाल सबसे अच्छा माना जाता है |

बादाम की खेती के लिए खरपतवार नियंत्रण

बादाम के पौधों के अच्छे विकास के लिए खरपतवार पर नियंत्रण करना बहुत जरूरी होता है | इसके लिए खेत में खरपतवार की निराई गुड़ाई की जाती है | पहली गुड़ाई को पौधों रोपण के तक़रीबन 25 से 30 दिन बाद करनी चाहिए | इसके बाद डेढ़ महीने में इसकी गुड़ाई करे, फिर समय – समय पर जब खरपतवार दिखाई दे तो इसकी निराई गुड़ाई कर सकते है |

बादाम की खेती में फलो की तुड़ाई पैदावार

बादाम के फलो को उनके पूरी तरह से पक जाने के बाद पतझड़ के मौसम में की जाती है | इसके पौधे 3 से 5 वर्ष बाद पूरी तरह से फल देना आरम्भ कर देते है  इसमें फल फूल लगने के 8 महीने के बाद पककर तैयार हो जाते है  बादाम की गुठलियों का रंग जब हरे से पीले में परिवर्तित हो जाये तब वह गुठलिया अधिक समय तक न तोड़ने पर अपने आप टूटकर नीचे गिरने लगती है  फलो को तोड़ने के बाद उन्हें छायादार जगहों पर सूखा लिया जाता है | गुठलियों के सूख जाने के बाद उन्हें फोड़कर उनसे बादाम की गिरी को निकाल लिया जाता है | Almond cultivation india Hindi

यदि आपको यह Zerodha Sub Broker Franchise Hindi in India की जानकारी पसंद  आई या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये |

You might also like
Leave a comment